Ad4

2/20/2021

नानक वाणी 41, Dhyaan mein Saphalata kaise milatee hai ।। गुरु की मूरति मन महि ।। भजन भावार्थ सहित

गुरु नानक साहब की वाणी / 41

प्रभु प्रेमियों ! संतमत सत्संग के महान प्रचारक सद्गुरु महर्षि मेंहीं परमहंस जी महाराज की भारती (हिंदी) पुस्तक "संतवाणी सटीक" एक अनमोल कृति है। इस कृति में बहुत से संतवाणीयों को एकत्रित करके सिद्ध किया गया है कि सभी संतों का एक ही मत है।  इसी हेतु सत्संग योग एवं अन्य ग्रंथों में भी संतवाणीयों का संग्रह किया गया है। जिसका शब्दार्थ, भावार्थ और टिप्पणी अन्य महापुरुषों के द्वारा किया गया हैै। यहां संतवाणी-सुधा सटीक से संत सद्गरु बाबा  श्री गुरु नानक साहब जी महाराज   की वाणी का शब्दार्थ, भावार्थ और टिप्पणी बारे मेंं जानकारी दी जाएगी। जिसे पूज्यपाद  छोटेलाल दास जी महाराज ने लिखा है। 

इस भजन (कविता, गीत, भक्ति भजन, पद्य, वाणी, छंद)  में बताया गया है कि-  ध्यान किनका करें? मंत्र के समान किनकी वाणी होती है? संत सद्गुरु का सम्मान किस तरह करना चाहिए? ज्ञान के अभाव में क्या होता है? सद्गुरु भक्तों को किससे छुड़ाते हैं और किस में लगाते हैं? गुरु के कृपा से क्या दिखलाई पड़ता है ? नैनाकाश का अंधकार फटने पर क्या-क्या दिखाई पड़ता है? मोह कैसे छूटता है? सद्गुरु कैसे हैं और कैसे सदा रहेंगे? संत सतगुरु की महिमा क्या है ?  मुक्ति कौन दे सकता है?  इन बातों की जानकारी  के साथ-साथ निम्नलिखित प्रश्नों के भी कुछ-न-कुछ समाधान पायेंगे। जैसे किसतगुरु महिमा, सतगुरु की महिमा अनंत, सतगुरु की आरती, सतगुरु वाणी, सतगुरु जी के भजन, सद्गुरु के विचार, सद्गुरु के प्रवचन, ध्यान में सफलता कैसे मिलती, जीवन में सफलता कैसे मिलती है, जीवन में सफलता के सूत्र, जीवन में कैसे आगे बढ़े, लाइफ में सफल होने के लिए एक व्यक्ति को चाहिए, कामयाब होने के लिए क्या करना चाहिए, करियर में सफलता के उपाय, सफल जीवन का रहस्य, सफल जीवन के लिए प्रेरणादायक नियम, काम में सफलता, जीवन में सफलता कैसे पाये, सफल जीवन के नियम, सफल व्यक्ति के गुण,  आदि बातें। इन बातों को जानने के पहले, आइए !  सदगुरु बाबा नानक साहब जी महाराज का दर्शन करें-

इस भजन के पहले वाले भजन ''नानक सतिगुरु भेटियै ,....'' को भावार्थ सहित पढ़ने के लिए   यहां दबाएं। 


सफल जीवन के रहस्यों का चर्चा करते बाबा नानक

2/19/2021

नानक वाणी 40, Sant Sataguru kya-kya de sakate hain ।। नानक सतिगुरु भेटियै ।। भजन भावार्थ सहित

  गुरु नानक साहब की वाणी / 40

प्रभु प्रेमियों ! संतमत सत्संग के महान प्रचारक सद्गुरु महर्षि मेंहीं परमहंस जी महाराज की भारती (हिंदी) पुस्तक "संतवाणी सटीक" एक अनमोल कृति है। इस कृति में बहुत से संतवाणीयों को एकत्रित करके सिद्ध किया गया है कि सभी संतों का एक ही मत है।  इसी हेतु सत्संग योग एवं अन्य ग्रंथों में भी संतवाणीयों का संग्रह किया गया है। जिसका शब्दार्थ, भावार्थ और टिप्पणी अन्य महापुरुषों के द्वारा किया गया हैै। यहां संतवाणी-सुधा सटीक से संत सद्गरु बाबा  श्री गुरु नानक साहब जी महाराज   की वाणी का शब्दार्थ, भावार्थ और टिप्पणी बारे मेंं जानकारी दी जाएगी। जिसे पूज्यपाद  छोटेलाल दास जी महाराज ने लिखा है। 

इस भजन (कविता, गीत, भक्ति भजन, पद्य, वाणी, छंद)  में बताया गया है कि-  सतगुरु मिलने पर क्या होता है? गुरु भक्ति से क्या क्या-क्या प्राप्त हो सकता है? गुरु महाराज क्या-क्या देते हैं? सच्चे सद्गुरु ही मोक्ष दे सकते हैं।  इन बातों की जानकारी  के साथ-साथ निम्नलिखित प्रश्नों के भी कुछ-न-कुछ समाधान पायेंगे। जैसे किअसली भक्ति क्या है, गुरु कितने होते हैं, भक्ति कितने प्रकार की होती है, गुरु का मतलब क्या होता है, गुरु क्या है, भक्ति क्या है बाबा नानक, गुरु की परिभाषा क्या है, भक्त शब्द का क्या आशय है, गुरु भक्ति क्या होती है, वास्तविक सच्ची भक्ति क्या है, गुरु किसे कहते है, भक्ति का अर्थ क्या है, भक्ति किसे कहते है,   आदि बातें। इन बातों को जानने के पहले, आइए !  सदगुरु बाबा नानक साहब जी महाराज का दर्शन करें-

इस भजन के पहले वाले भजन ''अंतरि गुरु आराधणा ,....'' को भावार्थ सहित पढ़ने के लिए   यहां दबाएं  


Sant satguru Ki Mahima ka bakhan karte satguru Baba Nanak Sahab

नानक वाणी 39, Hrday mein Kinakee Upaasana karanee chaahie ।। अंतरि गुरु आराधणा ।। भजन भावार्थ सहित

 गुरु नानक साहब की वाणी / 39

प्रभु प्रेमियों ! संतमत सत्संग के महान प्रचारक सद्गुरु महर्षि मेंहीं परमहंस जी महाराज की भारती (हिंदी) पुस्तक "संतवाणी सटीक" एक अनमोल कृति है। इस कृति में बहुत से संतवाणीयों को एकत्रित करके सिद्ध किया गया है कि सभी संतों का एक ही मत है।  इसी हेतु सत्संग योग एवं अन्य ग्रंथों में भी संतवाणीयों का संग्रह किया गया है। जिसका शब्दार्थ, भावार्थ और टिप्पणी अन्य महापुरुषों के द्वारा किया गया हैै। यहां संतवाणी-सुधा सटीक से संत सद्गरु बाबा  श्री गुरु नानक साहब जी महाराज   की वाणी का शब्दार्थ, भावार्थ और टिप्पणी बारे मेंं जानकारी दी जाएगी। जिसे पूज्यपाद  छोटेलाल दास जी महाराज ने लिखा है। 

इस भजन (कविता, गीत, भक्ति भजन, पद्य, वाणी, छंद)  में बताया गया है कि- हृदय में किनकी उपासना करनी चाहिए? किनका जप-ध्यान करना चाहिए? साधकों को अपनी दिनचर्या में किन बातों को महत्व देना चाहिए? किनसे प्रेम करना चाहिए? वह कौन सा तत्व है जो केवल सद्गुरु ही दे सकते हैं? सद्गुरु किनको परमात्मा का दर्शन कराते हैं?  इन बातों की जानकारी  के साथ-साथ निम्नलिखित प्रश्नों के भी कुछ-न-कुछ समाधान पायेंगे। जैसे कि- राशि नाम के अनुसार इष्ट देव उपासना, कलयुग में कौन से भगवान की पूजा करनी चाहिए, इष्टदेव का मतलब, आराध्य देव और इष्ट देव में अंतर, उपासना का अर्थ क्या है, उपासना कशी करायची, मानवता की हो उपासना का क्या अर्थ है, उपासना in English, उपासना का पर्यायवाची, इष्ट देव किसे कहते है, आत्मकारक से इष्ट देव कैसे जाने, कुंडली से इष्ट देव कैसे जाने, सिंह राशि के इष्ट देव कौन है, कन्या राशि के इष्ट देव कौन है, तुला राशि के इष्ट देव कौन है, इष्ट देवी, इष्ट का अर्थ क्या है, आदि बातें। इन बातों को जानने के पहले, आइए !  सदगुरु बाबा नानक साहब जी महाराज का दर्शन करें-

इस भजन के पहले वाले भजन ''रामा रम रामो सुनि मनु भीजै ,....'' को भावार्थ सहित पढ़ने के लिए   यहां दबाएं  


Upasna kin ki karni chahie? per charcha karte satguru Baba Nanak Sahib

2/07/2021

नानक वाणी 38, Gupt Hari Naam kaise milata hai ।। रामा रम रामो सुनि मनु भीजै ।। भजन भावार्थ सहित

 गुरु नानक साहब की वाणी / 38

प्रभु प्रेमियों ! संतमत सत्संग के महान प्रचारक सद्गुरु महर्षि मेंहीं परमहंस जी महाराज की भारती (हिंदी) पुस्तक "संतवाणी सटीक" एक अनमोल कृति है। इस कृति में बहुत से संतवाणीयों को एकत्रित करके सिद्ध किया गया है कि सभी संतों का एक ही मत है।  इसी हेतु सत्संग योग एवं अन्य ग्रंथों में भी संतवाणीयों का संग्रह किया गया है। जिसका शब्दार्थ, भावार्थ और टिप्पणी अन्य महापुरुषों के द्वारा किया गया हैै। यहां संतवाणी-सुधा सटीक से संत सद्गरु बाबा  श्री गुरु नानक साहब जी महाराज   की वाणी का शब्दार्थ, भावार्थ और टिप्पणी बारे मेंं जानकारी दी जाएगी। जिसे पूज्यपाद  छोटेलाल दास जी महाराज ने लिखा है। 

इस भजन (कविता, गीत, भक्ति भजन, पद्य, वाणी, छंद)  में बताया गया है कि- अपनी सूरत को किस में लीन करना चाहिए? राम नाम मिलने पर क्या होता है ? गुप्त हरि नाम कैसे मिलता है? राम नाम किस रूप में शरीर के अंदर में रहता है?  किस द्वार में राम नाम मिलता है? शरीर में कितने द्वार हैं? शरीर रूपी सुंदर नगर में अमृत रस क्या है? लाल रत्न को कौन प्राप्त कर सकता है? सतगुरु की गति कहां तक है? गुरुदेव से क्या मांगना चाहिए? लाल रतन क्या है? सच्चे भक्त किस चीज की इच्छा रखते हैं? भक्तों को किस तरह संसार में रहना चाहिए? हरिजन किसे कहते हैं?  इन बातों की जानकारी  के साथ-साथ निम्नलिखित प्रश्नों के भी कुछ-न-कुछ समाधान पायेंगे। जैसे किराम नाम महामंत्र, राम नाम जप से लाभ, राम नाम का चमत्कार, राम नाम की उत्पत्ति कैसे हुई, शास्त्रों में राम नाम की महिमा, राम नाम की सिद्धि, राम नाम कैसे जपे, राम नाम लिखने के फायदे, राम नाम फल, राम नाम के जप का प्रभाव, राम के कितने नाम, राम नाम रहस्य, हरी नाम की महिमा, श्री हरि विष्णु मंत्र, हरे कृष्ण महामंत्र का अर्थ, क्या हरे कृष्ण महामंत्र का जप माला पर बिना स्नान किये कर सकते हैं, राम कृष्ण हरि मंत्र लाभ, हरे कृष्ण महामंत्र के फायदे, हरी ओम मंत्र बेनिफिट्स, हरि नाम जप, हरे राम मंत्र जप, हरि ओम मंत्र का जाप, हरे कृष्णा हरे कृष्णा कृष्णा कृष्णा हरे हरे हरे राम हरे राम, मंत्र के फायदे, हरि ॐ मंत्र, आदि बातें। इन बातों को जानने के पहले, आइए !  सदगुरु बाबा नानक साहब जी महाराज का दर्शन करें-

इस भजन के पहले वाले भजन ''पंचे शबद बजे मति गुरमति ,....'' को भावार्थ सहित पढ़ने के लिए   यहां दबाएं 


Ram Naam Ki Mahima per charcha karte Baba Nanak

नानक वाणी 37, Manushy ke Shareer mein kitane Shabd hote hain ।। पंचे शबद बजे मति गुरमति ।। भजन भावार्थ सहित

 गुरु नानक साहब की वाणी / 37

प्रभु प्रेमियों ! संतमत सत्संग के महान प्रचारक सद्गुरु महर्षि मेंहीं परमहंस जी महाराज की भारती (हिंदी) पुस्तक "संतवाणी सटीक" एक अनमोल कृति है। इस कृति में बहुत से संतवाणीयों को एकत्रित करके सिद्ध किया गया है कि सभी संतों का एक ही मत है।  इसी हेतु सत्संग योग एवं अन्य ग्रंथों में भी संतवाणीयों का संग्रह किया गया है। जिसका शब्दार्थ, भावार्थ और टिप्पणी अन्य महापुरुषों के द्वारा किया गया हैै। यहां संतवाणी-सुधा सटीक से संत सद्गरु बाबा  श्री गुरु नानक साहब जी महाराज   की वाणी का शब्दार्थ, भावार्थ और टिप्पणी बारे मेंं जानकारी दी जाएगी। जिसे पूज्यपाद  छोटेलाल दास जी महाराज ने लिखा है। 

इस भजन (कविता, गीत, भक्ति भजन, पद्य, वाणी, छंद)  में बताया गया है कि- शरीर के अंदर कितने शब्द बजते हैं? इन शब्दों को कौन सुन पाता है? अनाहत शब्द का क्या महत्व है? परमात्मा को सबमें कौन देख सकता है? गुरु शब्द किसे कहते हैं? परमात्मा कैसा है? परमात्मा का भजन कैसे किया जाता है? अरदास में क्या बोलना चाहिए? कौन भक्तों की लाज रखता है? परमात्मा और जी का मिलन कैसे होता है?  इन बातों की जानकारी  के साथ-साथ निम्नलिखित प्रश्नों के भी कुछ-न-कुछ समाधान पायेंगे। जैसे किमानव शरीर के बारे में जानकारी, मानव शरीर का सामान्य परिचय, शरीर के शब्द की जानकारी, मानव शरीर के अंगों और उनके कार्यों, मानव शरीर व शरीर रचना की व्याख्या, मानव शरीर का निर्माण, मानव शरीर की रचना, मानव शरीर की आंतरिक संरचना का चित्र, मनुष्य के शरीर में, मनुष्य के शरीर में कितने शब्द होते हैं, शरीर में कितने शब्द होते हैं, शरीर के आंतरिक शब्द,गुरु शब्द का अर्थ हिंदी में, गुरु शब्द के दो अर्थ, गुरु की आवश्यकता, आदि बातें। इन बातों को जानने के पहले, आइए !  सदगुरु बाबा नानक साहब जी महाराज का दर्शन करें-

इस भजन के पहले वाले भजन ''जीआ अंदरि जीउ शबदु है ,....'' को भावार्थ सहित पढ़ने के लिए   यहां दबाएं 


Anahad shabdon per charcha karte Baba Nanak

2/06/2021

नानक वाणी 36, Shabd-Saadhan mein Chetan Shabd ।। जीआ अंदरि जीउ शबदु है ।। भजन भावार्थ सहित

 गुरु नानक साहब की वाणी / 36

प्रभु प्रेमियों ! संतमत सत्संग के महान प्रचारक सद्गुरु महर्षि मेंहीं परमहंस जी महाराज की भारती (हिंदी) पुस्तक "संतवाणी सटीक" एक अनमोल कृति है। इस कृति में बहुत से संतवाणीयों को एकत्रित करके सिद्ध किया गया है कि सभी संतों का एक ही मत है।  इसी हेतु सत्संग योग एवं अन्य ग्रंथों में भी संतवाणीयों का संग्रह किया गया है। जिसका शब्दार्थ, भावार्थ और टिप्पणी अन्य महापुरुषों के द्वारा किया गया हैै। यहां संतवाणी-सुधा सटीक से संत सद्गरु बाबा  श्री गुरु नानक साहब जी महाराज   की वाणी का शब्दार्थ, भावार्थ और टिप्पणी बारे मेंं जानकारी दी जाएगी। जिसे पूज्यपाद  छोटेलाल दास जी महाराज ने लिखा है। 

इस भजन (कविता, गीत, भक्ति भजन, पद्य, वाणी, छंद)  में बताया गया है कि- चेतन शब्द कहां है? सब्द-साधन में किस शब्द से सूरत का मिलाप होता है? चेतन शब्द की महिमा कैसा है?  परमात्मा किससे प्राप्त होता है? क्या हठयोग करने से और वेद पढ़ने से परमात्मा प्राप्त होता है? सद्गुरु की दया की आवश्यकता क्यों है? परमात्मा को कौन प्राप्त कर सकता है?  इन बातों की जानकारी  के साथ-साथ निम्नलिखित प्रश्नों के भी कुछ-न-कुछ समाधान पायेंगे। जैसे किचेतना क्या है, चेतना का मतलब, किस अवस्था में चेतना भावनात्मक होती है, चेतना के प्रकार, धार्मिक चेतना क्या है, चेतना का विकास, मानव चेतना का अर्थ एवं क्षेत्र का विस्तृत वर्णन, मानव चेतना एवं योग विज्ञान, चेतना चित्र, मानव चेतना का वर्तमान संकट, चेतना की अवस्था, चेतना के प्रकार नाम सहित, गुरु महिमा पाठ, गुरु की महिमा पर निबंध, गुरु की महिमा पर शायरी, गुरु महिमा के दोहे, गुरु' शब्द की महिमा, गुरु महिमा भजन लिरिक्स, गुरु महिमा वाणी, गुरु महिमा, सत्संग भजन, गुरु महिमा गीत, वेदों में गुरु महिमा, आदि बातें। इन बातों को जानने के पहले, आइए !  सदगुरु बाबा नानक साहब जी महाराज का दर्शन करें-

इस भजन के पहले वाले भजन ''निहचल एक सदा सचु सोई ,....'' को भावार्थ सहित पढ़ने के लिए   यहां दबाएं      


Nadan anusandhan mein kis Shabd ka Dhyan Kiya jata hai is per charcha karte Baba Nanak

Comments system

[blogger]

Disqus Shortname

msora

Ad3

Blogger द्वारा संचालित.