Ad1

Ad2

P82, 100% all sorrow destroyer "सब भव भय भंजन,...." महर्षि मेंहीं पदावली अर्थ सहित।

महर्षि मेंहीं पदावली / 82

      प्रभु प्रेमियों ! संतवाणी अर्थ सहित में आज हम लोग जानेंगे- संतमत सत्संग के महान प्रचारक सद्गुरु महर्षि मेंहीं परमहंस जी महाराज के भारती (हिंदी) पुस्तक "महर्षि मेंहीं पदावली" जो हम संतमतानुयाइयों के लिए गुरु-गीता के समान अनमोल कृति है। इस कृति के 82वां पद्य  "सब भव भय भंजन...'  का शब्दार्थ, भावार्थ और टिप्पणी के  बारे में। जिसे पूज्यपाद लालदास जी महाराज नेे किया है।


इस Santmat meditations भजन (कविता, पद्य, वाणी, छंद) "सब भव भय भंजन।..." में बताया गया है कि- पाप समूह और दुःख नाशक,बड़े-से-बड़े संकट का निवारण,अशुभ स्वप्न के अनिष्ट फल नाशक,दारिद्रय दाहक,रोग ऋण शत्रु दुख और दुर्गति का त्वरित निवारण,100% सर्व दुःख नाशक महा चमत्कारी उपाय के साथ-साथ निम्नलिखित प्रश्नें भी विचारनीय हैं-  सात पाप,सात घातक पाप,पाप,सात सामाजिक पाप नाशक,पंच पाप नाशक मंत्र,शिव स्तोत्रं, शिवताण्डवस्तोत्र शिव पंचाक्षर स्तोत्र, महाकाल अष्टक,शिव तांडव लिरिक्स,श्री स्तोत्रम,शिव पंचांग..



इस पद्य के  पहले वाले पद्य को पढ़ने के लिए  
यहां दबाएं।

P82, 100% all sorrow destroyer "सब भव भय भंजन,...." महर्षि मेंहीं पदावली अर्थ सहित। दुख समूह नाशक मंत्र पर विचार करते हुए गुरुदेव।
दुख समूह नाशक मंत्र पर विचार करते हुए गुरुदेव



100% all sorrow destroyer

सद्गुरु महर्षि मेंहीं परमहंस जी महाराज जी  कहते हैं- "संसार के सभी दुखों और पाप-समूह को नष्ट कर देने वाला केवल प्रभु का ही नाम (धनात्मक नाम-- सारशब्द) है।....." इस विषय में पूरी जानकारी के लिए इस भजन का शब्दार्थ, भावार्थ और टिप्पणी किया गया है। उसे पढ़ें-

P82, 100% all sorrow destroyer "सब भव भय भंजन,...." महर्षि मेंहीं पदावली अर्थ सहित। पदावली भजन 82, दुख समूह नाशक भजन।
पदावली भजन 82, दु:ख समूह नाशक भजन।

P82, 100% all sorrow destroyer "सब भव भय भंजन,...." महर्षि मेंहीं पदावली अर्थ सहित। पदावली भजन 82 का शब्दार्थ और भावार्थ।
पदावली भजन 82 का शब्दार्थ और भावार्थ।

P82, 100% all sorrow destroyer "सब भव भय भंजन,...." महर्षि मेंहीं पदावली अर्थ सहित। पदावली भजन 82 का भावार्थ और टिप्पणी।
पदावली भजन 82 का भावार्थ टिप्पणी।

इस भजन के  बाद वाले पद्य को पढ़ने के लिए    यहां दबाएं।


 श्री राम नाम की महिमा वर्णन भगवान शिवजी माता पार्वती जी से करते हुए कहते हैं कि इस दो अक्षर से बने राम नाम की महिमा भी अपरंपार है। राम नाम का स्मरण करके हम जीवन के कष्टों का निवारण कर सकते हैं।

प्रभु प्रेमियों ! गुरु महाराज के भारती पुस्तक "महर्षि मेंहीं पदावली" के भजन नं. 82 का शब्दार्थ, भावार्थ और टिप्पणी के द्वारा आप ने जाना कि पाप समूह और दुःख नाशक,बड़े-से-बड़े संकट का निवारण,अशुभ स्वप्न के अनिष्ट फल नाशक,दारिद्रय दाहक,रोग ऋण शत्रु दुख और दुर्गति का त्वरित निवारण,100% सर्व दुःख नाशक महा चमत्कारी उपाय? इतनी जानकारी के बाद भी अगर आपके मन में किसी प्रकार का शंका या कोई प्रश्न है, तो हमें कमेंट करें। इस लेख के बारे में अपने इष्ट मित्रों को भी बता दें, जिससे वे भी इससे लाभ उठा सकें। सत्संग ध्यान ब्लॉग का सदस्य बने। इससे आपको आने वाले  पोस्ट की सूचना नि:शुल्क मिलती रहेगी। इस पद का पाठ किया गया है, उसे सुननेे के लिए निम्नलिखित वीडियो देखें।



अगर आप 'महर्षि मेंहीं पदावली' पुस्तक के अन्य पद्यों के अर्थों के बारे में जानना चाहते हैं या इस पुस्तक के बारे में विशेष रूप से जानना चाहते हैं तो   यहां दबाएं। 

सत्संग ध्यान संतवाणी ब्लॉग की अन्य संतवाणीयों को अर्थ सहित पढ़ने के लिए    यहां दवाएं

P82, 100% all sorrow destroyer "सब भव भय भंजन,...." महर्षि मेंहीं पदावली अर्थ सहित। P82, 100% all sorrow destroyer "सब भव भय भंजन,...." महर्षि मेंहीं पदावली अर्थ सहित। Reviewed by सत्संग ध्यान on 2/10/2020 Rating: 5

कोई टिप्पणी नहीं:

कृपया सत्संग ध्यान से संबंधित किसी विषय पर जानकारी या अन्य सहायता के लिए टिप्पणी करें।

Ads 5

Blogger द्वारा संचालित.