Ad1

Ad2

P17, What qualities should a sadguru have "सतगुरु सुख के सागर,..." महर्षि मेंहीं पदावली भजन अर्थ सहित ।

महर्षि मेंहीं पदावली / 17

      प्रभु प्रेमियों ! संतवाणी अर्थ सहित में आज हम लोग जानेंगे- संतमत सत्संग के महान प्रचारक सद्गुरु महर्षि मेंहीं परमहंस जी महाराज के भारती (हिंदी) पुस्तक "महर्षि मेंहीं पदावली" जो हम संतमतानुयाइयों के लिए गुरु-गीता के समान अनमोल कृति है। इस कृति के 17 वां, पद्य- "सतगुरु सुख के सागर,..." का शब्दार्थ, भावार्थ और टिप्पणी के  बारे में। जिसे पूज्यपाद लालदास जी महाराज नेे किया है।
इस  पदावली भजन "सतगुरु सुख के सागर,..." में बताया गया है कि- सच्चे सद्गुरु में कौन-कौन से गुण होना चाहिए गुरु कैसा होना चाहिए?संत सद्गुरु कैसा होना चाहिए,हमारा गुरू कैसा होना चाहिए,असली सतगुरु की पहचान,सतगुरु की क्या पहचान होती है, सतगुरु कैसा होना चाहिए, गुरु कैसा होना चाहिए,संत सद्गुरु महर्षि,SADGURU MAHARSHI MEHI,संत सद्गुरु महर्षि मेंही परमहंस जी महाराज,सद्गुरु वीडियो,सद्गुरु,सद्गुरु हिंदी वीडियो,सद्‌गुरु कौन है,अध्यात्मिक गुरु | सतगुरु | सतगुरु कौन है,सतगुरु का अर्थ, आदि।


इस पद्य के  पहले वाले पद्य को पढ़ने के लिए   यहां दबाएं

P17, What qualities should a sadguru have "सतगुरु सुख के सागर,..." महर्षि मेंहीं पदावली भजन अर्थ सहित । सद्गुरु महर्षि मेंहीं और टीका का लाल दास जी महाराज
सद्गुरु महर्षि मेंही और टीकाकार लाल दास जी महाराज



What qualities should a sadguru have


सद्गुरु महर्षि मेंहीं परमहंस जी महाराज जी  कहते हैं- "सच्चे सद्गुरु में कौन-कौन से गुण होने चाहिए? सद्गुरु सुख-समुद्र रूप अर्थात् परमालौकिक सुख के अपार भंडार, कल्याणकारी गुणों की खान और उत्तम ज्ञान प्रकट करने वाले हैं।..." इस विषय में पूरी जानकारी के लिए इस भजन का शब्दार्थ, भावार्थ और टिप्पणी किया गया है। उसे पढ़ें-
P17, What qualities should a sadguru have "सतगुरु सुख के सागर,..." महर्षि मेंहीं पदावली भजन अर्थ सहित । श्री श्रीधर बाबा टीकाकृत पदावली भजन 17
श्री श्रीधर बाबा  टीकाकृत पदावली भजन 17 

P17, What qualities should a sadguru have "सतगुरु सुख के सागर,..." महर्षि मेंहीं पदावली भजन अर्थ सहित । पदावली भजन 17 अर्थ सहित
पदावली भजन 17 अर्थ सहित

P17, What qualities should a sadguru have "सतगुरु सुख के सागर,..." महर्षि मेंहीं पदावली भजन अर्थ सहित । पदावली भजन 17 भावार्थ टिप्पणी।
पदावली भजन 17 भावार्थ टिप्पणी
इस पद्य के  बाद वाले पद्य को पढ़ने के लिए   यहां दबाएं

प्रभु प्रेमियों !  "महर्षि मेंही पदावली शब्दार्थ, पद्यार्थ सहित" नामक पुस्तक  से इस भजन के शब्दार्थ, भावार्थ द्वारा आपने जाना कि सच्चे सद्गुरु में कौन-कौन से गुण होना चाहिए गुरु कैसा होना चाहिए?संत सद्गुरु कैसा होना चाहिए,हमारा गुरू कैसा होना चाहिए। आदि। इतनी जानकारी के बाद भी अगर आपके मन में किसी प्रकार का शंका या कोई प्रश्न है, तो हमें कमेंट करें। इस लेख के बारे में अपने इष्ट-मित्रों को भी बता दें, जिससे वे भी इससे लाभ उठा सकें। सत्संग ध्यान ब्लॉग का सदस्य बने। इससे आपको आने वाले  पोस्ट की सूचना नि:शुल्क मिलती रहेगी। इस पद्य का पाठ किया गया है उसे सुननेे के लिए निम्नांकित वीडियो देखें।


अगर आप 'महर्षि मेंहीं पदावली' पुस्तक के अन्य पद्यों के अर्थों के बारे में जानना चाहते हैं या इस पुस्तक के बारे में विशेष रूप से जानना चाहते हैं तो     यहां दबाएं। 

गुरु महाराज की सभी पुस्तकों एवं संतमत से प्रकाशित अन्य पुस्तकें एवं सत्संग ध्यान से संबंधित अन्य सामग्री के लिए हमारे सत्संग ध्यान ऑनलाइन स्टोर पर पधारने के लिए    यहां दबाएं

सत्संग ध्यान स्टोर पर पुस्तकों की सूची के लिए
 यहां दवाएं

P17, What qualities should a sadguru have "सतगुरु सुख के सागर,..." महर्षि मेंहीं पदावली भजन अर्थ सहित । P17, What qualities should a sadguru have "सतगुरु सुख के सागर,..." महर्षि मेंहीं पदावली भजन अर्थ सहित । Reviewed by सत्संग ध्यान on 12/07/2019 Rating: 5

कोई टिप्पणी नहीं:

कृपया सत्संग ध्यान से संबंधित किसी विषय पर जानकारी या अन्य सहायता के लिए टिप्पणी करें।

Ads 5

Blogger द्वारा संचालित.