Ad1

Ad4

ईश्वर लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
ईश्वर लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

8/06/2020

नानक वाणी 22, What is the power of God । कर्ता भुगता करने जोग । भजन भावार्थ सहित -बाबा लालदास

गुरु नानक साहब की वाणी / 22

प्रभु प्रेमियों ! संतमत सत्संग के महान प्रचारक सद्गुरु महर्षि मेंहीं परमहंस जी महाराज की भारती (हिंदी) पुस्तक "संतवाणी सटीक" एक अनमोल कृति है। इस कृति में बहुत से संतवाणीयों को एकत्रित करके सिद्ध किया गया है कि सभी संतों का एक ही मत है।  इसी हेतु सत्संग योग एवं अन्य ग्रंथों में भी संतवाणीयों का संग्रह किया गया है। जिसका शब्दार्थ, भावार्थ और टिप्पणी अन्य महापुरुषों के द्वारा किया गया हैै। यहां संतवाणी-सुधा सटीक से संत सद्गरु बाबा  श्री गुरु नानक साहब जी महाराज   की वाणी  ''कर्ता भुगता करने जोग,....'' का शब्दार्थ, भावार्थ और टिप्पणी बारे मेंं जानकारी दी जाएगी। जिसे पूज्यपाद  छोटेलाल दास जी महाराज ने लिखा है। 

इस भजन (कविता, गीत, भक्ति भजन, पद्य, वाणी, छंद)  में बताया गया है कि- ईश्वर की साम‌र्थ्य क्या है? ईश्वर सर्वशक्तिमान है।  परमेश्वर वह सर्वोच्च परालौकिक शक्ति है जिसे इस संसार का सृष्टा और शासक कहते है ।  इन बातों की जानकारी  के साथ-साथ निम्नलिखित प्रश्नों के भी कुछ-न-कुछ समाधान पायेंगे। जैसे कि- ईश्वर सर्वशक्तिमान है, ईश्वर की साम‌र्थ्य, ईश्वर की शक्ति, ईश्वर की शक्ति क्या है,  ईश्वर की शक्ति कैसे प्राप्त करें,  ईश्वर की दिव्य शक्तियों का संकेत,  ईश्वर शक्ति, ईश्वर शक्ति क्या है, ईश्वर शक्ति वीडियो, ईश्वर का अस्तित्व - GYAN VIGYAN,ईश्वर का स्वरूप, क्या ईश्वर सत्य है, ईश्वर के अस्तित्व के प्रमाण, ईश्वर का शाब्दिक अर्थ, आदि। इन बातों को जानने के पहले, आइए !  सदगुरु बाबा नानक साहब जी महाराज का दर्शन करें। 

इस भजन के पहले वाले भजन ''शब्द सुरति की साखी बूझै...'' को भावार्थ सहित पढ़ने के लिए   यहां दबाएं।

ईश्वर की शक्ति क्या है ? इस पर चर्चा करते हुए सतगुरु बाबा नानक साहब जी महाराज।
ईश्वर कैसा सामर्थ्यवान है? पर चर्चा करते बाबा नानक

7/25/2020

नानक वाणी 11, How is god । अलख अपार अगम अगोचरि । भजन भावार्थ सहित -सदगुरु महर्षि मेंहीं

गुरु नानक साहब की वाणी / 11

प्रभु प्रेमियों ! संतमत सत्संग के महान प्रचारक सद्गुरु महर्षि मेंहीं परमहंस जी महाराज की भारती (हिंदी) पुस्तक "संतवाणी सटीक" एक अनमोल कृति है। इस कृति में बहुत से संतवाणीयों को एकत्रित करके सिद्ध किया गया है कि सभी संतों का एक ही मत है। इसी कृति में  संत श्री गुरु नानक साहब जी महाराज   की वाणी  ''अलख अपार अगम अगोचरि,...'' का शब्दार्थ, भावार्थ और टिप्पणी किया गया है। जिसे पूज्यपाद  सद्गुरु महर्षि  मेंहीं परमहंस जी महाराज ने लिखा है। उसी के बारे मेंं यहां जानकारी दी जाएगी।

इस भजन (कविता, गीत, भक्ति भजन, पद्य, वाणी, छंद)  में बताया गया है कि-  धर्म के ग्रंथ वेद में ईश्वर को 'ब्रह्म' कहा गया है। ईश्वर या परमेश्वर को भगवान, परमात्मा या परमेश्वर भी कहते हैं। वह ईश्वर क्या और भगवान कौन ?  कहाँ हैं? कैसे मिलेंगे? ईश्वर किसे कहते हैं? ईश्वर की परिभाषा क्या है? ईश्वर के कितने नाम है? अध्यात्म के सबसे गहरे दो शब्द 'ईश्वर' और 'भगवान' के बारे में जानकारी  के साथ-साथ निम्नलिखित प्रश्नों के भी कुछ-न-कुछ समाधान पायेंगे। जैसे कि- भगवान और ईश्वर में क्या अंतर है? वेदों के अनुसार ईश्वर कौन है? ईश्वर कितना नाम है? क्या ईश्वर सत्य है, ईश्वर का स्वरूप कैसा है, ईश्वर कौन है, सबसे बड़ा ईश्वर कौन है,ईश्वर एक है,ईश्वर का शाब्दिक अर्थ, ईश्वर और भगवान में अंतर, गीता के अनुसार ईश्वर की परिभाषा, आदि बातों को जानने के पहले आइए ! भक्त सदगुरु बाबा नानक साहब जी महाराज का दर्शन करें। 

इस भजन के पहले वाले भजन ''अनहदो अनहदु बाजै...'' को भावार्थ सहित पढ़ने के लिए   यहां दबाएं।

सतगुरु बाबा नानक साहब की वाणी में ईश्वर कैसा है?
How is god । अलख अपार अगम अगोचरि 

7/03/2020

सूरदास 18, Where does god live । अविगत गति कछु कहत न आवै । भजन भावार्थ सहित । -स्वामी लालदास।

संत सूरदास की वाणी  / 18

प्रभु प्रेमियों ! संतमत सत्संग के महान प्रचारक सद्गुरु महर्षि मेंहीं परमहंस जी महाराज प्रमाणित करते हुए "संतवाणी सटीक"  भारती (हिंदी) पुस्तक में लिखते हैं कि सभी संतों का मत एक है। इसके प्रमाण स्वरूप बहुत से संतों की वाणीओं का संग्रह कर उसका शब्दार्थ, भावार्थ और टिप्पणी किया गया हैं। इसके अतिरिक्त भी "सत्संग योग" और अन्य पुस्तकों में संतवाणीयों का संग्रह है। जिसका टीकाकरण पूज्यपाद लालदास जी महाराज और अन्य टीकाकारों ने किया है। यहां "संतवाणी-सुधा सटीक" में प्रकाशित भक्त  सूरदास जी महाराज  की वाणी "अविगत गति कछु कहत न आवै,...'  का शब्दार्थ, भावार्थ और टिप्पणियों को पढेंगे। 

इस भजन (कविता, गीत, भक्ति भजन, पद्य, वाणी, छंद) "अविगत गति कछु कहत न आवै । ,..." में बताया गया है कि-   परब्रह्म या परम-ब्रह्म ब्रह्म का वो रूप है, जो निर्गुण और असीम है। "नेति-नेति" करके इसके गुणों का वर्णन किया गया है।  ब्रह्म कौन है? परम-तत्त्व के निराकार स्वरूप को ब्रह्म कहते है। ब्रह्म का स्वरूप निर्गुण और असीम है। ब्रह्म जगत् का कारण है, यह ब्रह्म का तटस्थ लक्षण है । जो तुम्हारा अपना स्वरूप है , वह ब्रह्म है । ओमकार जिनका स्वरूप है, ओम जिसका नाम है, उस ब्रह्म को ही ईश्‍वर, परमेश्वर, परमात्मा, प्रभु आदि कहते हैं। ब्रह्म क्या है? ब्रह्म-स्वरूप क्या है? ईश्वर कहां रहता है? इन बातों के साथ-साथ निम्नलिखित प्रश्नों के भी कुछ-न-कुछ समाधान पायेंगे। जैसे कि-     ब्रह्म का स्वरूप क्या है, पूर्ण ब्रह्म क्या है,  परब्रह्म क्या है, ब्रह्म ज्ञान का अर्थ, परमात्मा का स्वरूप क्या है? ब्रह्म सत्यं जगत मिथ्या श्लोक,  ब्रह्म क्या है? ब्रह्म का विलोम,परब्रह्म शिव आत्मा का स्वरुप क्या है? परमात्मा का मतलब क्या होता है? परमात्मा क्या है? ब्रह्म,  इत्यादि बातों को समझने के पहले, आइए ! भक्त सूरदास जी महाराज का दर्शन करें। 

इस भजन के पहले वाले पद्य  "झूठेही लगि जनम गँवायौ" को भावार्थ सहित पढ़ने के लिए  यहां दबाएं।

अविगत गति कछु कहत न आवै
अविगत गति कछु कहत न आवै

सूरदास 16, What does god want from us । सबसों ऊँची प्रेम सगाई । भजन भावार्थ सहित । -महर्षि मेंहीं

संत सूरदास की वाणी  /  16

प्रभु प्रेमियों ! संतमत सत्संग के महान प्रचारक सद्गुरु महर्षि मेंहीं परमहंस जी महाराज प्रमाणित करते हुए "संतवाणी सटीक"  भारती (हिंदी) पुस्तक में लिखते हैं कि सभी संतों का मत एक है। इसके प्रमाण स्वरूप बहुत से संतों की वाणीओं का संग्रह कर उसका शब्दार्थ, भावार्थ और टिप्पणी किया गया हैं। इसके अतिरिक्त भी "सत्संग योग" और अन्य पुस्तकों में संतवाणीयों का संग्रह है। जिसका टीकाकरण पूज्यपाद लालदास जी महाराज और अन्य टीकाकारों ने किया है। यहां "संत-भजनावली सटीक" में प्रकाशित भक्त  सूरदास जी महाराज  की वाणी "सबसों ऊँची प्रेम सगाई,...'  का शब्दार्थ, भावार्थ और टिप्पणियों को पढेंगे। 

इस भजन (कविता, गीत, भक्ति भजन, पद्य, वाणी, छंद) "मेरो मन अनत कहाँ सुख पावै । ,..." में बताया गया है कि-   " क्या रिश्ता है इंसान का ईश्वर से? हम उसे कैसे पा सकते हैं? परन्तु यह एक विचारणीय प्रश्न है। ज़िंदगी का मकसद क्या है? ईश्‍वर से प्रार्थना करें, तो हमें क्या फायदे हो सकते हैं?  मनुष्य धर्म के द्वारा क्या पा सकता है?  इन बातों के साथ-साथ निम्नलिखित प्रश्नों के भी कुछ-न-कुछ समाधान पायेंगे। जैसे कि-  क्या ईश्वर सत्य है, ईश्वर एक है, ईश्वर का स्वरूप, सबसे बड़ा ईश्वर कौन है, वेदों के अनुसार ईश्वर कौन है, वेदों में ईश्वर का स्वरूप, क्या ईश्वर का अस्तित्व है, भगवान और परमात्मा में अंतर, ईश्वर इन इंग्लिश, Ishwar, ईश्वर अजन्मा है, ईश्वर की सत्ता,, इत्यादि बातों को समझने के पहले, आइए ! भक्त सूरदास जी महाराज का दर्शन करें। 

इस भजन के पहले वाले पद्य  "मेरो मन अनत कहाँ सुख पावै" को भावार्थ सहित पढ़ने के लिए  यहां दबाएं।

सबसों ऊँची प्रेम सगाई भजन गाते हुए भक्त सूरदास जी महाराज और टीकाकार
सबसों ऊँची प्रेम सगाई भजन गाते हुए भक्त सूरदास

7/02/2020

सूरदास 11, Examples of exclusive devotion । तुम तजि और कौन पै जाऊँ । भजन भावार्थ सहित । -महर्षि मेंहीं

संत सूरदास की वाणी  / 11

प्रभु प्रेमियों ! संतमत सत्संग के महान प्रचारक सद्गुरु महर्षि मेंहीं परमहंस जी महाराज प्रमाणित करते हुए "संतवाणी सटीक"  भारती (हिंदी) पुस्तक में लिखते हैं कि सभी संतों का मत एक है। इसके प्रमाण स्वरूप बहुत से संतों की वाणीओं का संग्रह कर उसका शब्दार्थ, भावार्थ और टिप्पणी किया गया हैं। इसके अतिरिक्त भी "सत्संग योग" और अन्य पुस्तकों में संतवाणीयों का संग्रह है। जिसका टीकाकरण पूज्यपाद लालदास जी महाराज और अन्य टीकाकारों ने किया है। यहां "संत-भजनावली सटीक" में प्रकाशित भक्त  सूरदास जी महाराज  की वाणी " तुम तजि और कौन पै जाऊँ,... '  का शब्दार्थ, भावार्थ और टिप्पणियों को पढेंगे। 
एकनिष्ठ भक्ति और उपासना भगवान से मिला देती है । शुद्धभक्त सदैव भगवान कृष्ण के विभिन्न रूपों में से किसी एक की भक्ति में लगा रहता है। परमात्मा की एकनिष्ठ भक्ति करके कवि और ईश्वर एक होकर अभिन्न हो गए हैं। ।  एकनिष्ठ प्रेमवाले भक्त केवल कृष्ण को अपना ईष्ट माना है ।   इसी एकनिष्ठा को प्रकट करते हुए भक्त संत सूरदास जी महाराज इस भजन (कविता, गीत, भक्ति भजन, पद्य, वाणी, छंद) "तुम तजि और कौन पै जाऊँ ,..." में कहते है-  " हे श्रीकृष्ण ! मैं आपकी शरण छोड़कर दूसरे किसकी शरण में जाऊँ ! आप ही बताइए , मैं अपने इच्छित पदार्थ की प्राप्ति के लिए किसके द्वार जाकर उसके आगे अपना सिर झुकाऊँ ( उससे प्रार्थना करूँ ) और कहाँ जाकर किसके हाथ बिक जाऊँ ( किसकी दासता स्वीकार करूँ )। जैसे कि-   सूरदास जी, सूरदास की भक्ति भावना, सूरदास तस्वीरें, सूरदास का काव्य सौन्दर्य, सूरदास - कविता कोश, सूरदास की भाषा शैली, आशा एक राम जी से,एकनिष्ठ भक्ति के उदाहरण, इत्यादि बातों को समझने के पहले आइए भक्त सूरदास जी का दर्शन करें। 

इस भजन के पहले वाले पद्य  "मो सम कौन कुटिल खल कामी ।..." को पढ़ने के लिए     यहां दबाएं।

एक निष्ठ भक्ति भजन गाते हुए भक्त सूरदास जी महाराज और टीकाकार लाल दास जी महाराज।
एकनिष्ठ-भक्ति भजन गाते भक्त सूरदास जी

7/01/2020

सूरदास 08, What is the promise of god । प्रभु मेरे औगुन चित न धरो । भजन भावार्थ सहित । -महर्षि मेंहीं

संत सूरदास की वाणी  / 08

प्रभु प्रेमियों ! संतमत सत्संग के महान प्रचारक सद्गुरु महर्षि मेंहीं परमहंस जी महाराज प्रमाणित करते हुए "संतवाणी सटीक"  भारती (हिंदी) पुस्तक में लिखते हैं कि सभी संतों का मत एक है। इसके प्रमाण स्वरूप बहुत से संतों की वाणीओं का संग्रह कर उसका शब्दार्थ, भावार्थ और टिप्पणी किया गया हैं। इसके अतिरिक्त भी "सत्संग योग" और अन्य पुस्तकों में संतवाणीयों का संग्रह है। जिसका टीकाकरण पूज्यपाद लालदास जी महाराज और अन्य टीकाकारों ने किया है। यहां "संत-भजनावली सटीक" में प्रकाशित भक्त  सूरदास जी महाराज  की वाणी "प्रभु मेरे औगुन चित न धरो... '  का शब्दार्थ, भावार्थ और टिप्पणियों को पढेंगे। 

इस भजन (कविता, गीत, भक्ति भजन, पद्य, वाणी, छंद) "प्रभु मेरे औगुन चित न धरो,..." में सूरदास जी महाराज ने बताया है।   हे मेरे ईश्वर !हमारे अवगुण को अपने हृदय में धारण मत कीजिए। बल्कि आप अपने स्वभाव के अनुसार काम कीजिए। इसके अतिरिक्त निम्नलिखित बातों का भी कुछ न कुछ समाधान हुआ है जैसे कि   कविता कोश, शंकर भगवान का भजन,भगवान का भक्ति भजन,राम भगवान के भजन,भगवान का गाना,जंभेश्वर भगवान का भजन,बुद्ध भगवान के भजन,कृष्ण भगवान के भजन mp3,भगवानों के भजन इत्यादि बातों को समझने के पहले आइए भक्त सूरदास जी का दर्शन करें। 

इस भजन के पहले वाले पद्य  "जो जन ऊधो मोहि न बिसरै ।..." को पढ़ने के लिए    यहां दबाएं।

प्रभु मेरे अवगुण चित ना धरो,.. भजन गाते हुए भक्त सूरदास जी महाराज और उसका भावार्थ करते टीकाकार स्वामी लालदास जी।
प्रभु मेरे औगुन चित न धरो । भजन भावार्थ सहित 

6/30/2020

सूरदास 06, True worship of god । जो मन कबहुँक हरि को जाँचे । भजन भावार्थ सहित । महर्षि मेंहीं

संत सूरदास की वाणी  / 06

प्रभु प्रेमियों ! संतमत सत्संग के महान प्रचारक सद्गुरु महर्षि मेंहीं परमहंस जी महाराज के भारती (हिंदी) पुस्तक "संतवाणी सटीकअनमोल कृति है। इस कृति में बहुत से संतवाणीयों को एकत्रित करके सिद्ध किया गया है कि सभी संतों का एक ही मत है। इसी कृति में संत सूरदास जी महाराज  की वाणी "जो मन कबहुँक हरि को जाँचे ।..." का  भावार्थ सद्गुरु महर्षि मेंहीं परमहंस जी महाराज ने   किया है। 

ईश्वरोपासना ही मोक्ष के असली साधन है । अतः ईश्वर भक्ति के संबंध में विविध तरह के विचार प्रचलित हैं। उनमें आत्म संतुष्टि दायक, सर्व सिद्धि प्रदाता, सर्व मनोकामना पूर्ण करने वाला, सभी दुखों से छुड़ाने वाला ईश्वर का असली भक्ति क्या है? इस भजन (कविता, गीत, भक्ति भजन, पद्य, वाणी, छंद) "जो मन कबहुँक हरि को जाँचे।,..." में सूरदास जी महाराज ने बताया है। प्रायः लोग निम्नलिखित बातों में उलझ कर रह जाते हैं और असली भक्ति नहीं कर पाते हैं जैसे कि-  ईश्वर पूजा में जप, ध्यान, प्राणायाम का साधन आदि। हिन्दू धर्म के ग्रंथ वेद में ईश्वर को 'ब्रह्म' कहा गया है। ब्रह्म को प्रणव, सच्चिदानंद, परब्रह्म भी कहा जाता है।  गुरु को ईश्वर का तारक रूप माना जाता है।  इसलिए इन दोनों रूपों की उपासना आज तक लोग करते आए हैं। ईश्वर-उपासना करते हुए, विषय, धन, जन अथवा मान-यश की कामना करने पर से मुक्ति की सिद्धि नहीं होती है। आपत्त, रोग, शोक, ताप, मान और अपमान इत्यादि ईश्वर भक्ति में बाधक होते हैं। अगर सबकुछ नियतिबद्ध है तो ईश्वर का चमत्कार का क्या मतलब है।मात्र एक ईश्वर ही सबसे महान है और उपासना परमात्मा की असली पहचान कराने वाला। आदि बातें। इन बातों को समझने के पहले आइए भक्त सूरदास जी महाराज का दर्शन करें।

इस भजन के पहले वाले पद्य "जौं लौं सत्य स्वरूप न सूझत।..." को पढ़ने के लिए    यहां दबाएं।

ईश्वर भक्ति का असली भेद बताते हुए भक्त सूरदास जी महाराज और भगवान श्री कृष्ण।
ईश्वर भक्ति का असली रहस्य

Comments system

[blogger]

Disqus Shortname

msora

Ad3

Blogger द्वारा संचालित.