Ad1

Ad2

P24, Hindi Bhakti Bhajan Sadguru ki vinti, "दया प्रेम स्वरूप सद्गुरु,..." महर्षि मेंहीं पदावली अर्थ सहित

महर्षि मेंहीं पदावली / 24

      प्रभु प्रेमियों ! संतवाणी अर्थ सहित में आज हम लोग जानेंगे- संतमत सत्संग के महान प्रचारक सद्गुरु महर्षि मेंहीं परमहंस जी महाराज के भारती (हिंदी) पुस्तक "महर्षि मेंहीं पदावली" जो हम संतमतानुयाइयों के लिए गुरु-गीता के समान अनमोल कृति है। इस कृति के 24वां, पद्य- "गुरु कीजै भवनिधि पार,..." का शब्दार्थ, भावार्थ और टिप्पणी के  बारे में। जिसे पूज्यपाद लालदास जी महाराज नेे किया है।
इस सद्गुरु भजन (कविता, पद्य, वाणी, छंद, भजन) "दया प्रेम स्वरूप सद्गुरु,..." में बताया गया है कि- विनती,मेरी विनती यही है,मेरी विनती यही- सद्गुरु कृपा बरसाए रखना,YAHI VINTI H MERE SATGURU,सतगुरु भजन,Karu vinti dou kar jodi,SATGURU VINTI,करू विनती,करो विनती सद्गुरु स्वामी,Maharshi Mehi Paramhans Stuti,संत सद्गुरु महर्षि मेँहीँ,महर्षि मेंही भजन,महर्षि मेंही का स्तुति विनती,कुप्पाघाट का भजन,कुप्पाघाट महर्षि मेंही का भजन,दया प्रेम स्वरूप सद्गुरु, आदि।

इस पद्य के  पहले वाले पद्य को पढ़ने के लिए  

P24, Hindi Bhakti Bhajan Sadguru ki vinti, "दया प्रेम स्वरूप सद्गुरु,..." महर्षि मेंहीं पदावली अर्थ सहित। अरावली भजन के रचयिता और टीकाकार
पदावली भजन के रचयिता और टीकाकार




HindiBhajan babaji ki vinti "दया प्रेम स्वरूप सद्गुरु,..." 
सद्गुरु महर्षि मेंहीं परमहंस जी महाराज इस भजन में कहते हैं- "हे दया और प्रेम की मूर्ति सद्गुरु! आप मेरी प्रार्थना पर ध्यान दीजिए । मैं नीच, कामी और कुचाली हूं; मुझे आप अपवित्र बुद्धि का भी जानिए।..." इस विषय में पूरी जानकारी के लिए इस भजन का शब्दार्थ, भावार्थ और टिप्पणी किया गया है। उसे पढ़ें-

P24, Hindi Bhakti Bhajan Sadguru ki vinti, "दया प्रेम स्वरूप सद्गुरु,..." महर्षि मेंहीं पदावली अर्थ सहित। महर्षि मेंही पदावली भजन नंबर 24
महर्षि मेंहीं पदावली भजन नंबर 24

P24, Hindi Bhakti Bhajan Sadguru ki vinti, "दया प्रेम स्वरूप सद्गुरु,..." महर्षि मेंहीं पदावली अर्थ सहित. पदावली भजन 24 शब्दार्थ।
पदावली भजन 24 शब्दार्थ।

P24, Hindi Bhakti Bhajan Sadguru ki vinti, "दया प्रेम स्वरूप सद्गुरु,..." महर्षि मेंहीं पदावली अर्थ सहित. पदावली भजन 24 के कठिन शब्दों के अर्थ
पदावली भजन 24 के कठिन शब्दों के अर्थ

P24, Hindi Bhakti Bhajan Sadguru ki vinti, "दया प्रेम स्वरूप सद्गुरु,..." महर्षि मेंहीं पदावली अर्थ सहित। पदावली भजन 24 के भावार्थ।
पदावली भजन 24 के भावार्थ।

P24, Hindi Bhakti Bhajan Sadguru ki vinti, "दया प्रेम स्वरूप सद्गुरु,..." महर्षि मेंहीं पदावली अर्थ सहित। पदावली भजन 24 भावार्थ, टिप्पणी।
पदावली भजन 24, भावार्थ टिप्पणी।

P24, Hindi Bhakti Bhajan Sadguru ki vinti, "दया प्रेम स्वरूप सद्गुरु,..." महर्षि मेंहीं पदावली अर्थ सहित। पदावली भजन 24, पर विशेष
पदावली भजन 24, पर विशेष

P24, Hindi Bhakti Bhajan Sadguru ki vinti, "दया प्रेम स्वरूप सद्गुरु,..." महर्षि मेंहीं पदावली अर्थ सहित। पदावली भजन 24, पर विशेष टिप्पणी।
पदावली भजन 24, पर विशेष टिप्पणी।

P24, Hindi Bhakti Bhajan Sadguru ki vinti, "दया प्रेम स्वरूप सद्गुरु,..." महर्षि मेंहीं पदावली अर्थ सहित। पदावली भजन 24 के छंद वर्णन।
पदावली भजन 24 के छंद वर्णन।




इस पद्य के  बाद वाले पद्य को पढ़ने के लिए   यहां दबाएं।


प्रभु प्रेमियों !  "महर्षि मेंहीं पदावली शब्दार्थ, भावार्थ और टिप्पणी सहित" नामक पुस्तक  से इस भजन के शब्दार्थ, भावार्थ और टिप्पणी द्वारा आपने जाना कि संसार-समुद्र से पार होने की प्रार्थना,सामुदायिक प्रार्थना,Prayer to cross the world,What are the basic prayers  इतनी जानकारी के बाद भी अगर आपके मन में किसी प्रकार का शंका या कोई प्रश्न है, तो हमें कमेंट करें। इस लेख के बारे में अपने इष्ट-मित्रों को भी बता दें, जिससे वे भी इससे लाभ उठा सकें। सत्संग ध्यान ब्लॉग का सदस्य बने। इससे आपको आने वाले  पोस्ट की सूचना नि:शुल्क मिलती रहेगी। इस पद्य का पाठ किया गया है उसे सुननेे के लिए निम्नांकित वीडियो देखें।



अगर आप 'महर्षि मेंहीं पदावली' पुस्तक के अन्य पद्यों के अर्थों के बारे में जानना चाहते हैं या इस पुस्तक के बारे में विशेष रूप से जानना चाहते हैं तो     यहां दबाएं। 

गुरु महाराज की सभी पुस्तकों एवं संतमत से प्रकाशित अन्य पुस्तकें एवं सत्संग ध्यान से संबंधित अन्य सामग्री के लिए हमारे सत्संग ध्यान ऑनलाइन स्टोर पर पधारने के लिए    यहां दबाएं

सत्संग ध्यान संतवाणी ब्लॉक की अन्य संतवाणीयों के अर्थ सहित सूची के लिए    यहां दवाएं

सत्संग ध्यान स्टोर पर पुस्तकों की सूची के लिए
 यहां दवाएं


P24, Hindi Bhakti Bhajan Sadguru ki vinti, "दया प्रेम स्वरूप सद्गुरु,..." महर्षि मेंहीं पदावली अर्थ सहित P24, Hindi Bhakti Bhajan Sadguru ki vinti, "दया प्रेम स्वरूप सद्गुरु,..." महर्षि मेंहीं पदावली अर्थ सहित Reviewed by सत्संग ध्यान on 12/15/2019 Rating: 5

कोई टिप्पणी नहीं:

कृपया सत्संग ध्यान से संबंधित किसी विषय पर जानकारी या अन्य सहायता के लिए टिप्पणी करें।

Ads 5

Blogger द्वारा संचालित.